Categories

Posts

देश की आजादी का असली बोस नेता जी सुभाष चंद्र बोस

यदि आप किसी बच्चे के सामने यह नारा बोला जाये कि तुम मुझे खून दो, मैं तुम्हेंष आजादी दूंगा तो बच्चे के मुंह से एक ही शब्द निकलेगा नेता जी सुभाष चंद्र बोस। क्योंकि इस नारे से देश को नई ऊर्जा देने वाले नेताजी सुभाष चंद्र बोस भारतीयता की पहचान हैं। वह ऐसे वीर सैनिक हैं, जिनकी गाथा इतिहास सदैव गाता रहेगा। श्जय हिन्दश् का नारा भारत का राष्ट्रीय नारा बन गया। उन्होंने सिंगापुर के टाउन हाल के सामने सुप्रीम कमांडर के रूप में सेना को संबोधित करते हुए दिल्ली चलो का नारा दिया।

23 जनवरी 1897 को उड़ीसा के कटक में पैदा हुए स्वतंत्रता के इस महान सिपाही ने भारतीय प्रशासनिक सेवा (आईसीएस) की परीक्षाओं में सफलता हासिल की थी, लेकिन पद छोड़ दिया और देश की स्वतंत्रता के लिए लड़ने का फैसला किया।

उसके बाद सुभाष चन्द्र बोस सविनय अवज्ञा आंदोलन में शामिल हो गए, जो महात्मा गांधी के नेतृत्व में चल रहा था। हालांकि, उस समय सुभाष चन्द्र बोस ने बाद में, सुभाष चन्द्र बोस भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस (आईएनसी) के एक सक्रिय सदस्य भी बने। वर्ष 1938 और 1939 में, सुभाष चन्द्र बोस को पार्टी अध्यक्ष के रूप में चुना गया था। हालांकि, सुभाष चन्द्र बोस ने वर्ष 1940 में अपने पद से इस्तीफा दे दिया और उसके बाद सुभाष ने फॉरवर्ड ब्लॉक नाम से अपनी पार्टी की स्थापना की।

सुभाष चन्द्र बोस को ब्रिटिश सरकार द्वारा नजरबंद कर लिया गया था, क्योंकि सुभाष उस समय ब्रिटिश शासन का विरोध कर रहे थे। हालांकि, सुभाष ने वर्ष 1941 में गुप्त तरीके से देश छोड़ दिया था और अफगानिस्तान के माध्यम से पश्चिम की ओर यूरोप चले गए, जहाँ पर सुभाष ने रूस और जर्मन से अंग्रेजों के खिलाफ युद्ध करने के लिए सहायता मांगी। सुभाष ने वर्ष 1943 में जापान का दौरा किया, जहाँ शाही प्रशासन ने उनकी याचना पर मदद के लिए हामी भरी थी। यही वह जगह थी जहाँ पर सुभाष ने भारतीय युद्ध में शामिल होने वाले कैदियों के साथ ‘आजाद हिन्द फौज’ का गठन किया, जो ब्रिटिश भारतीय सेना के लिए काम करते थे। अक्टूबर 1943 में सुभाष ने एक अस्थायी सरकार का गठन किया, जिसे द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान, असीमित शक्तियों द्वारा स्वीकृत प्रदान की गई थी।

अंत

बोस के नेतृत्व में, आईएनए (आजाद हिंद फौज) ने पूर्वोत्तर भारत के कुछ हिस्सों पर हमला किया और कुछ हिस्सों पर कब्जा करने में कामयाब रहे। हालांकि, अंत में आईएनए को, खराब मौसम और जापानी नीतियों के कारण आत्मसमर्पण करने के लिए मजबूर किया गया था। हालांकि सुभाष चन्द्र बोस, उनमें से एक थे जो आत्मसमर्पण करने के लिए तैयार नहीं थे। सुभाष चन्द्र बोस वहाँ से किसी तरह भाग निकले और फिर से अपने उस संघर्ष की लड़ाई को दोहराने का प्रयास किया। सुभाष चन्द्र बोस ताइहोकू हवाई अड्डे पर एक विमान से सुरक्षित बचकर भाग निकले लेकिन उनका भागना निरर्थक रहा। ऐसा कहा जाता है कि सुभाष चन्द्र बोस का विमान फारमोसा (जिसे अब ताइवान के रूप में जाना जाता है) में दुर्घटनाग्रस्त हो गया था, उस समय फारमोसा पर जापानियों द्वारा शासन किया जा रहा था।

भारत के इतिहास के महत्वपूर्ण अवधि में ज्वलंत नेतृत्व की भावना को बनाए रखा, और भी कई अन्य तरीकों से बोस ने अपनी मातृभूमि के लिए स्वतंत्रता संग्राम में अपना विशिष्ट योगदान दिया। आईएनए (आजाद हिंद फौज) द्वारा किया गया हमला, चाहे वह कितने भी कम समय तक रहा हो, एक महत्वपूर्ण कारक बना, जिसने अंततः ब्रिटिश लोगों के कार्यों को रोकने और उन्हें अपने देश में वापस जाने के निर्णय में एक महत्वपूर्ण योगदान दिया था। अंत में सुभाष चन्द्र बोस ने भारत की आजादी के लिए मार्ग प्रशस्त कर दिया।

निःसंदेह नेताजी, भारत की आजादी के इतिहास में सबसे महत्वपूर्ण व्यक्तियों में से एक हैं। सुभाष चन्द्र बोस ने स्वतंत्रता संग्राम के अग्रणी नेता जैसे महात्मा गांधी और जवाहरलाल नेहरू सहित, 200 वर्षों के ब्रिटिश शासन के चंगुल से अपने उचित तरीके से देश को स्वतंत्रता दिलाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। एक सक्रिय स्वतंत्रता सेनानी के रूप में सुभाष चन्द्र बोस ने अपने जीवन के अंतिम दिनों में भी अंग्रेजों से लड़ने की अपनी भावना को बरकरार रखा- यहाँ तक कि जब उनकी मौत हुई उस समय वह रूस में स्थानांतरण करने और ब्रिटिश लोगों से मुकाबला करने के लिए नए रास्ते को तलाशने की योजना बना रहे थे और इनकी दृढ़ता और देशभक्ति का उत्साह ऐसा है कि इन्हें किसी अन्य की तुलना में अधिक सम्मानित किया जाना चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published.