Categories

Posts

संगीत विज्ञान और वेद

प्रायः सामान्य बोलचाल की भाषा में संगीत कहने से लोग केवल गायन को ही समझते हैं परन्तु संगीत की भाषा में यदि देखें तो गायन, वादन व नृत्य तीनों के समुह को संगीत कहते हैं। संगीत वो ललित कला है जिसमें स्वर और लय के द्वारा हम अपने भावों को प्रकट करते हैं। कला की श्रेणी में ५ ललित कलायें आती हैं- संगीत, कविता, चित्रकला, मूर्तिकला और वास्तुकला। इन ललित कलाओं में संगीत को सर्वश्रेष्ठ माना गया है।
वेद के विषय में कहा जाता है कि – यह समस्त ज्ञान-विज्ञान का भण्डार है ।
आईये आज हम विचार करते हैं कि संगीत विद्या के विषय में वेदों में क्या निर्देश प्राप्त हो सकते हैं ? संगीत का विशेष सम्बन्ध वेदों में सामवेद से ही है । सामवेद को संगीत प्रधान कहा जाता है । सामन् का अर्थ होता है गीति, गान अथवा संगीत, अर्थात् मन्त्रों का सस्वर पाठ करना ही सामन् है । बृहदारण्यक उपनिषद् में भी कहा है कि सामवेद का सार तो स्वर ही है ।
यजुर्वेद में एकत्र ही कहा है कि “स्वरश्च मे श्लोकश्च मे” स्वर अर्थात् संगीत और श्लोक अर्थात् कवित्व का युग्म होता है । संगीत की दृष्टि से सामवेद का दो भागों में विभाजन है – पूर्वार्चिक और उत्तरार्चिक ।

नारदीय शिक्षा में गान विद्या से सम्बद्ध कुछ उपयोगी तथ्य दिए गए हैं । जैसे कि – सातों स्वरों के नाम तथा संकेत इस प्रकार हैं – १. षड्ज (स), २. ऋषभ (रे), गांधार (ग), मध्यम (म), पञ्चम (प), धैवत (ध), निषाद (नि)।
महर्षि पतंजलि जी ने महाभाष्य में सामवेद को “सहस्रवर्त्मा सामवेद:” अर्थात् एक सहस्र मार्ग वाला कहा है । सामवेद में भी कहा है कि “गाये सहस्रवर्तनि” इस मन्त्र में कहा गया है कि मैं गायत्री, त्रिष्टुप और जगती छन्द वाले मन्त्रों को सहस्र प्रकार से गाता हूँ ।

यजुर्वेद में संकेत है कि – “गीताय शैलूषम्” अर्थात् गायन विद्या या संगीत से आजीविका चलानेवाले को शैलूष कहा गया है । वीणावादक के लिए “महसे वीणावादम्” कहा है अर्थात् वीणा बजानेवाले को वीणावाद कहा जाता है जो कि अत्यन्त शुभ माना जाता था और किसी विशेष अवसरों पर बजाया जाता था । इस प्रकार वेणु (मुरली) बजनेवाले, हाथों से ढोल, तबला आदि बजानेवाले के विषय में भी वेद में संकेत दिए गए हैं ।

इससे ज्ञात होता है कि सामवेद में ही नहीं किन्तु यजुर्वेद आदि में भी संगीत विद्या का मार्गदर्शन किया गया है । सांसारिक प्रत्येक विद्या वा विज्ञान की जानकारी के लिए हमें वेद के शरण में ही जाना आवश्यक है । वास्तव में संगीत सुनते ही हमारे मन में शान्ति, सुख, प्रसन्नता आदि की प्राप्ति होती है । यदि हम उचित रूप में संगीत विज्ञान को सिखकर प्रयोग करते हैं तो स्वयं सुख-शान्ति से युक्त होने के साथ-साथ दूसरों को भी सुख-शान्ति से युक्त करने में समर्थ हो सकते हैं ।

लेख – आचार्य नवीन केवली

Leave a Reply

Your email address will not be published.